न्यूनतम समर्थन मूल्य नई सूची (MSP) 2022-23 | Minimum Support Price

न्यूनतम समर्थन मूल्य नई सूची  Minimum Support Price List  न्यूनतम समर्थन मूल्य  Niyuntam Samarthan Mulye  newnatam samarthan mulya kya hai

स्वागत है आप सभी का आज के नए पोस्ट में, आज के इस पोस्ट में हम आपको न्यूनतम समर्थन मूल्य नई सूची (MSP) 2022-23 | Minimum Support Price, न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) वह दर है जिस पर सरकार किसानों से फसल खरीदती है और यह किसानों की उत्पादन लागत के कम-से-कम डेढ़ गुना अधिक होती है। केंद्र सरकार ने धान, दलहन और तिलहन (सभी अनिवार्य खरीफ फसलों के लिये) हेतु न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) में वृद्धि करने की घोषणा की है।

केंद्र सरकार किसानों का विकास करने का निरंतर प्रयास किया जाता है। जिसके लिए सरकार विभिन्न प्रकार की योजनाएं संचालित करती है। भारत सरकार द्वारा फसल की खरीद पर एक न्यूनतम मूल्य का भुगतान किया जाता है। इस मूल्य को न्यूनतम समर्थन मूल्य कहा जाता है।

आज आप को minimum support price से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की जाएगी।  दि आप Niyuntam Samarthan Mulye का पूरा ब्यौरा प्राप्त करना चाहते हैं तो आप से निवेदन है कि आप हमारे इस Article को पूरा पढ़ना होगा

Minimum Support Price 2022-23 | न्यूनतम समर्थन मूल्य

जैसे कि आप जनते हैं की  न्यूनतम समर्थन मूल्य किसी भी फसल के लिए न्यूनतम मूल्य होता है जिसे सरकार किसानों को प्रदान करती है। इस मूल्य से कम कीमत पर सरकार द्वारा फसल को नहीं खरीदा जा सकता। सरकार द्वारा न्यूनतम मूल्य पर फसल की खरीद की जाती है।

न्यूनतम समर्थन मूल्य

केंद्र सरकार द्वारा वर्तमान में 23 फसलों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य का भुगतान किया जाता है। जिसमें 7 अनाज (धान, गेहूं, मक्का, बाजरा, ज्वार रागी और जौ), 5 दाले (चना, अरहर, उड़द, मूंग और मसूर), 7 तिलहन (रेपसीड-सरसों, मूंगफली, सोयाबीन, सूरजमुखी, तिल, कुसुम नाइजरसीड्) एवं 4 व्यवसायिक फसल (कपास, गन्ना, खोपरा और कच्चा जूट) शामिल है।

Minimum Support Price Main Point Highlights:

योजना का नाम न्यूनतम समर्थन मूल्य
किसने आरंभ की केंद्र सरकार
लाभार्थी देश के किसान
उद्देश्य किसानों को फसल का सही दाम प्रदान करना
आधिकारिक वेबसाइट Click Here
साल 2022-23

Minimum Support Price किसानों एवं उपभोक्ताओं के लिए एक रियायती मूल्य सुनिश्चित करता है। कृषि लागत और मूल्य आयोग की सिफारिशों के आधार पर सरकार द्वारा प्रत्येक वर्ष अनाज, दलहन, तिलहन और वाणिज्यिक फसलों जैसे कृषि फसलों के लिए संबंधित राज्य सरकारों एवं केंद्रीय विभागों द्वारा विचार करने के पश्चात एमएससी की घोषणा की जाती है।

न्यूनतम समर्थन मूल्य

न्यूनतम समर्थन मूल्य क्या होता है 

न्यूनतम सर्मथन मूल्य यानी मिनिमम सपोर्ट प्राइस या एमएसपी किसानों की फसल की सरकार द्वारा तय कीमत होती है. एमएसपी के आधार पर ही सरकार किसानों से उनकी फसल खरीदती है. राशन सिस्टम के तहत जरूरतमंद लोगों को अनाज मुहैया कराने के लिए इस एमएसपी पर सरकार किसानों से उनकी फसल खरीदती है

Niyuntam Samarthan Mulye  का उद्देश्य क्या है 

Minimum Support Price किसानों को अपनी फसल के सही दाम दिलवाने के उद्देश्य से आरंभ किया गया है। सरकार द्वारा लगभग 25 फसलों का एक न्यूनतम दाम तय कर दिया जाता है। इसके अलावा इस योजना के माध्यम से किसान सशक्त एवं आत्मनिर्भर भी बनेंगे। न्यूनतम समर्थन मूल्य योजना किसानों के जीवन स्तर को सुधारने में भी कारगर साबित होगी। इसके अलावा उपभोक्ताओं तक भी फसल सही दामों में पहुंच सकेगी। इस मूल्य को कृषि लागत और मूल्य आयोग की सिफारिशों के आधार पर सरकार द्वारा प्रत्येक वर्ष घोषित किया जाता है।

न्यूनतम समर्थन मूल्य

न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) कौन तय करता है

न्यूनतम समर्थन मूल्य, कृषि लागत एवं मूल्य आयोग ( CACP) तय करता है. यह आयोग तकरीबन सभी फसलों के लिए दाम तय करता है CACP समय के साथ खेती की लागत के आधार पर फसलों की कीमत तय करके अपने सुझाव सरकार के पास भेजता है. सरकार इन सुझाव पर स्टडी करने के बाद एमएसपी की घोषणा करती है.

(MSP) न्यूनतम समर्थन मूल्य के अंतर्गत आने वाली फसलें 

इस समय 23 फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य सरकार तय करती है. धान, गेहूं, मक्का, जौ, बाजरा, चना, तुअर, मूंग, उड़द, मसूर, सरसों, सोयाबीन, सूरजमूखी, गन्ना, कपास, जूट आदि की फसलों के दाम सरकार तय करती है. एमएसपी के लिए अनाज की 7, दलहन की 5, तिलहन की 7 और 4 कमर्शियल फसलों को शामिल किया गया है.

  • अनाज
    • धान
    • गेहूं
    • मक्का
    • बाजरा
    • ज्वार
    • रागी
    • जौ
  • दाले
    • चना
    • अरहर
    • उड़द
    • मूंग
    • मसूर)
  • तिलहन
    • रेपसीड-सरसों
    • मूंगफली
    • सोयाबीन
    • सूरजमुखी
    • तिल
    • कुसुम
    • नाइजरसीड्)
  • व्यवसायिक फसल
    • कपास
    • गन्ना
    • खोपरा
    • कच्चा जूट

केंद्र सरकार द्वारा प्रदान किया जाने वाला न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP)

फसले MSP FOR RMS 2021-22 MSP FOR RMS 202223 उत्पादन की लागत 2022-23 MSP दर में वृद्धि प्रतिशत में लागत पर वापसी
गेहूं 1975 रूपये 2015 रूपये 1008 रूपये 40 रूपये 100%
जौ 1600 रुपये 1635 रूपये 1019 रूपये 35 रूपये 60%
चना 5100 रूपये 5230 रूपये 3004 रूपये 130 रूपये 74%
मसूर 5100 रूपये 5500 रूपये 3079 रूपये 400 रूपये 79%
सरसों 4650 रुपये 5050 रूपये 2523 रूपये 400 रूपये 100%
सूरजमुखी के फूल 5327 रूपये 5541 रूपये 3627 रूपये 114 रूपये 50%

न्यूनतम समर्थन मूल्य लॉगिन कैसे करें

  • सबसे पहले आपको न्यूनतम समर्थन मूल्य की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा
  • इसके बाद आधकारिक वेबसाइट पर लॉगिन ऑप्शन पर Click  करे
  • अब आपके सामने एक नया लॉगिन पेज खुलकर आएगा
  • अब स्टेट नोडल अधिकारी अपना स्टेट व पासवर्ड Sumbit करके लॉगिन Option पर Click करे

Important Link 

Join Our Group For All Information And Update, योजना की सभी जानकारी और अपडेट के लिए हमारे ग्रुप से जुड़ें 

Follow US On Google News यहां क्लिक करें
Linktree account यहां क्लिक करें
Facebook Page यहां क्लिक करें
Linkedin यहां क्लिक करें
Instagram – India यहां क्लिक करें
Google my business यहां क्लिक करें
Twitter यहां क्लिक करें
PMAYojana Website यहां क्लिक करें

Niyuntam Samarthan Mulye (F.A.Qs)?

एमएसपी क्या है 
एमएसपी यानी न्यूनतम समर्थन मूल्य वह न्यूनतम मूल्य होता है जिस पर सरकार, किसानों की फसल खरीदती है। इसे ऐसे भी समझ सकते हैं कि सरकार, किसान से खरीदी जाने वाली फसल पर उसे एमएसपी से नीचे भुगतान नहीं करेगी।
न्यूनतम समर्थन मूल्य कौन जारी करता है?
न्यूनतम समर्थन मूल्य, कृषि लागत एवं मूल्य आयोग ( CACP) तय करता है. यह आयोग तकरीबन सभी फसलों के लिए दाम तय करता है.
न्यूनतम समर्थन मूल्य के अंतर्गत कितनी फसलें आती हैं?
इसमें 7 अनाज वाली फसलें हैं– धान, गेहूं, बाजरा, मक्का, ज्वार, रागी, जौ. इनमें से सिर्फ गन्ना ही है जिस पर कुछ हद तक कानूनी पाबंदी लागू होती है क्योंकि आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत एक आदेश के मुताबिक़ गन्ने पर उचित और लाभकारी मूल्य देना ज़रूरी है.
वर्ष 2021 22 के लिए केंद्रीय सरकार ने धान के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य क्या निर्धारित की है?
केंद्र सरकार प्रत्येक वर्ष खरीफ तथा रबी फसल को मिलाकर 23 फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य घोषित करती है। यह मूल्य देश के सभी राज्यों के लिए एक सामान लागू होते हैं। इस वर्ष सामान्य धान का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1940 रुपए प्रति क्विंटल तय किया गया है।26
गेहूं का समर्थन मूल्य कितना है?
गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) 40 रुपये बढ़ाकर 2,015 रुपये प्रति क्विंटल कर दिया.

एमएसपी मूल्य क्यों निर्धारित किया जाता है ?

सरकार के अंतर्गत एमएसपी मूल्य निर्धारित करने का मुख्य लक्ष्य है किसानों को उनकी फसल का बेहतर मूल्य प्रदान करना ताकि उनकी आर्थिक स्थिति में परिवर्तन आ सके।

क्या MSP मूल्य प्रत्येक वर्ष निर्धारित किया जाता है ?

जी हाँ सरकार के अंतर्गत किसानों को फसल का सही दाम दिलाने के लिए प्रत्येक वर्ष MSP रेट में वृद्धि की जाती है।

न्यूनतम समर्थन मूल्य MSP के तहत किसानों को क्या लाभ मिलते है ?

MSP के अंतर्गत किसान नागरिक सरकार को अपनी फसल तय किये गए MSP मूल्य पर बेच सकते है। उत्पादन लागत पर कम से कम किसानों को 50 प्रतिशत का लाभ सुनिश्चित किया जाता है।

सरकार के अंतर्गत किसानों को लाभांवित करने हेतु कितनी फसलों के लिए MSP दरें तय की गयी है ?

देश के किसान नागरिकों को उनकी फसलों का सही दाम दिलाने के लिए सरकार के अंतर्गत 25 फसलों की खरीद हेतु MSP दरे लागू की गयी है। प्रत्येक वर्ष किसानों को फसलों का बेहतर दाम देने के लिए एमएसपी दरों में वृद्धि की जाती है।

Conclusion / निष्कर्ष:-

आशा करता हु दोस्तों आपको ये पोस्ट जरूर पसंद आया होगा। और इस पोस्ट मे मेने  न्यूनतम समर्थन मूल्य नई सूची 2022-23 | (MSP) Minimum Support Price   इसके बारे मे पूरी जानकारी दी हुई है।

इसके लिए आप मेरे इस पोस्ट को शेयर भी कर सकते हो | अगर आपके मन में कोई सवाल है तो आप हमें नीचे कमेंट करके बता सकते हैं |

इसी तरह के जानकारी के लिए आप हमारी Website पर Visit करे, और अगर यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने मित्रों को और अपने सोशल साइट शेयर जरूर करें, धन्यवाद|